अफसाने

कुसूर अपना निकल आया

बदला तेरे सितम का

औरत की खुद्दारी

खयाल अपना अपना

मुजरिम ज़मीर

इक किरण उजाले की

फाटक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *